महत्वपूर्ण समाचार: पर्सनल लोन की किस्तें हो रही हैं भारी! दूसरे बैंक में कराएं ट्रांसफर, कम होगी ईएमआई; सीखो कैसे

0
10


पर्सनल लोन बैलेंस ट्रांसफर: अगर आपने पर्सनल लोन लिया है और आपको उसकी किस्तें चुकाने में मुश्किल हो रही है, तो आप कम ब्याज दर पर उस लोन को दूसरे बैंक में ट्रांसफर करवा सकते हैं। इसका रास्ता आसान है। आज हम इसके बारे में पूरी जानकारी देते हैं।

पर्सनल लोन बैलेंस ट्रांसफर: आजकल घरेलू जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्सनल लोन लेना काफी आम हो गया है। कई बार ऐसा होता है कि जिस बैंक से हम पर्सनल लोन लेते हैं, कुछ समय बाद हमें ज्यादा ब्याज दर मिलने लगती है। तो हम नहीं जानते कि क्या करना है। लेकिन अब इस समस्या का समाधान आ गया है. आप चाहें तो अपने पर्सनल लोन के बचे हुए खाते को कम ब्याज दर पर दूसरे बैंक में ट्रांसफर करवा सकते हैं।

पर्सनल लोन को दूसरे बैंक में ट्रांसफर किया जा सकता है

इस बारे में एचडीएफसी बैंक की वेबसाइट ने विस्तृत जानकारी दी है। बैंक के मुताबिक अगर कोई वित्तीय संस्थान या बैंक आपके खाते पर लागू ब्याज दर से कम पर लोन स्विच या लोन ट्रांसफर की पेशकश कर रहा है तो आप इसका फायदा उठा सकते हैं.

करनी होगी ये औपचारिकताएं

बैंक के मुताबिक आपको अपना पर्सनल लोन ट्रांसफर कराने के लिए कुछ औपचारिकताएं पूरी करनी होंगी। आपको प्रोसेसिंग फीस, फोरक्लोजर फीस और फोरक्लोजर फीस (अगर लागू हो) पर स्टैंप ड्यूटी देनी होगी। इसके बाद आपका लोन दूसरे बैंक में ट्रांसफर हो जाता है और आपके लोन की बची हुई किश्त दूसरे बैंक में ही जमा करनी होती है।

जानिए लोन ट्रांसफर के फायदे

अब बात करते हैं दूसरे बैंक में पर्सनल लोन का बैलेंस ट्रांसफर कराने के फायदों की। पार्टनर वेबसाइट Zee Business के मुताबिक, आप बाकी के लोन को दूसरे बैंक में ट्रांसफर करके चुकाने की अवधि को बढ़ा या घटा सकते हैं। कार्यकाल जितना लंबा होगा, ईएमआई उतनी ही कम होगी लेकिन ब्याज अधिक होगा। वहीं, अगर अवधि कम की जाती है तो आपको ज्यादा ईएमआई और कम ब्याज देना होगा।

ब्याज दरों में गिरावट

एक और फायदा ब्याज दरें हैं। आमतौर पर कोई व्यक्ति अपना पर्सनल लोन दूसरे बैंक में तभी ट्रांसफर करता है, जब उसकी ब्याज दरें कम होती हैं। ऐसे में अगर आप भी अपना पर्सनल लोन किसी दूसरे बैंक में ट्रांसफर करते हैं तो आपकी ब्याज दरों में भी कमी आएगी और आपको इसका फायदा मिलेगा।

तीसरा फायदा यह है कि कई बैंक आपको पर्सनल लोन को नए सिरे से पुनर्वित्त करने के साथ-साथ टॉप-अप, यानी लोन राशि बढ़ाने की अनुमति देते हैं। वहीं, कई बैंक टॉप-अप के साथ-साथ नए लोन की सुविधा भी देते हैं। जिससे आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होती है।

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर! RBI ने रेपो रेट में 0.50% की बढ़ोतरी की, जानिए आपके लोन की EMI कितनी बढ़ जाएगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.