पीएम किसान योजना: किसानों के लिए खुशखबरी, केवाईसी पर बड़ा अपडेट, जानिए अब नई समय सीमा

0
185


अगर आप भी पीएम किसान योजना के लाभार्थी हैं तो आपके लिए एक अहम खबर है। 11वीं किस्त के बाद अब सरकार ने केवाईसी अनिवार्य कर दिया है। अगर आपने अभी तक इस योजना के तहत ईकेवाईसी नहीं करवाया है तो तुरंत करवाएं। अगर आप केवाईसी नहीं कराते हैं तो आपको अगली किस्त नहीं मिलेगी।

पीएम किसान योजना: अगर आप भी पीएम किसान योजना के लाभार्थी हैं तो आपके लिए एक अहम खबर है। 11वीं किस्त के बाद अब सरकार ने केवाईसी अनिवार्य कर दिया है। अगर आपने अभी तक इस योजना के तहत ईकेवाईसी नहीं करवाया है तो तुरंत करवाएं। अगर आप केवाईसी नहीं कराते हैं तो आपको अगली किस्त नहीं मिलेगी। दरअसल, सरकार ने इसकी समय सीमा बढ़ाने के किसी भी विचार से इनकार किया है।

केंद्र सरकार ने की घोषणा

केंद्र सरकार ने योजना का लाभ पाने के लिए अनिवार्य eKYC की समय सीमा बढ़ा दी थी। यह जानकारी पीएम किसान पोर्टल (pmkisan.gov.in) पर दी गई। पीएम किसान वेबसाइट पर एक फ्लैश के अनुसार, ‘सभी PMKISAN लाभार्थियों के लिए eKYC की समय सीमा 31 जुलाई 2022 तक बढ़ा दी गई है’। पहले इसकी डेडलाइन 31 मई 2022 थी। यानी एक बार फिर इसकी डेडलाइन नजदीक है।

ई-केवाईसी के बिना नहीं मिलेगा पैसा

आपको बता दें कि ई-केवाईसी के बिना आपकी किस्त अटक सकती है। पीएम किसान पोर्टल पर बताया गया है कि आधार आधारित ओटीपी प्रमाणीकरण के लिए किसानों को किसान कॉर्नर में ई-केवाईसी विकल्प पर क्लिक करना होगा। बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के लिए किसी को निकटतम सीएससी केंद्र पर जाना होगा। यह काम घर बैठे अपने मोबाइल, कंप्यूटर या लैपटॉप से ​​भी किया जा सकता है।

जानिए इसकी प्रक्रिया

1. आधार आधारित ओटीपी प्रमाणीकरण के लिए किसान कॉर्नर में ‘ईकेवाईसी’ विकल्प पर क्लिक करें
2. बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के लिए निकटतम सीएससी केंद्रों से संपर्क करें।
3. इसे आप अपने मोबाइल, लैपटॉप या कंप्यूटर की मदद से घर बैठे ही पूरा कर सकते हैं।
4. इसके लिए सबसे पहले आप https://pmkisan.gov.in/ portal पर जाएं।
5. दायीं तरफ आपको ऐसे टैब मिलेंगे। सबसे ऊपर आपको e-KYC लिखा मिलेगा। इस पर क्लिक करें।

इसके अलावा आप आसानी से अपनी किस्त का स्टेटस चेक कर सकते हैं। इसके लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.